विवेक ओबरॉय ने बताया आते हैं उनको सुसाइड थॉट्स खुद को किया सुशांत सिंह राजपूत से रिलेट

विवेक ओबरॉय बॉलीवुड के काफी जाने माने कलाकार रहे हैं। जिनकी कई सारी फिल्में हिट रही लेकिन आगे चलकर उनके करियर में कुछ ऐसा टर्निंग प्वाइंट आया है जिसको लेकर के उन्हें फिल्मों में काम मिलना है बंद हो गया। और धीरे-धीरे पर्दों से उनका नाम गायब होने लग गया और आज के डेट में होगी निजी फिल्मों में नजर आते हैं। उन्होंने अपनी जिंदगी के इस समय के बारे में बात किया जिसके बारे में हम आगे आपको बताएंगे।

करियर में उतार-चढ़ाव देखने को मिला

विवेक ओबरॉय को उनके कैरियर में काफी ज्यादा उतार-चढ़ाव देखने को मिला। एक समय उनको काफी ज्यादा फिल्मों के ऊपर आया करते थे। लेकिन उनकी जिंदगी में कुछ ऐसी घटनाएं घटी। जिसके बाद उन्हें फिर मिलना काफी कम हो गई। और आज के डेट में बहुत ही कम फिल्मों में नजर आते हैं। इस तरह उन्होंने अपनी जिंदगी के कपड़े उतार चढ़ाव होते हैं ,लेकिन अभी भी बॉलीवुड से दूर नहीं हुए हैं।

विवेक ओबरॉय ने बताया आते हैं उनको सुसाइड थॉट्स खुद को किया सुशांत सिंह राजपूत से रिलेट

सुशांत सिंह राजपूत से किया खुद को रिलेट

सुशांत सिंह राजपूत बॉलीवुड के एक ऐसे कलाकार हैं जिनको लेकर के लोग हमेशा बात करते रहते हैं। और उनकी मौत के बाद लोग अक्सर उन्हें याद करते रहते हैं। ऐसे भी खुदा ने खुद को सुशांत सिंह राजपूत के साथ रिलेट करते हुए बात कहिए और बताया कि उन्होंने भी अपने करियर में काफी बुरे दिन देखे हैंm जिसकी वजह से उसे शान सिंह राजपूत का दर्द समझ सकते हैं। उन्होंने सुशांत सिंह राजपूत के बारे में और भी कई सारी बातें कही।

विवेक ओबरॉय ने बताया आते हैं उनको सुसाइड थॉट्स खुद को किया सुशांत सिंह राजपूत से रिलेट

अपनी मां से मिली विवेक को काफी ज्यादा मदद

विवेक ओबरॉय को अपनी मां से काफी ज्यादा मदद मिली। जब वह अपने करियर के बुरे दिनों को देख रहे थे तब उस समय उनकी मां ने उनके बहुत ही ज्यादा मदद की। और आज वह अपने करियर के उन पुराने दिनों से उबर कर बाहर आ चुके हैं। और कुछ कुछ फिल्मों में उन्हें अब देखा जा रहा है उनकी मां ने उन्हें कैंसर पीड़ित बच्चों से मिलवाया। जहां वे को बुराई को कोशिश करते रहने की प्रेरणा मिली।

विवेक ओबरॉय ने बताया आते हैं उनको सुसाइड थॉट्स खुद को किया सुशांत सिंह राजपूत से रिलेट

अपना पिता का परिचय दे बिना देते थे ऑडिशन

विवेक ओबरॉय अगर चाहते तो अपने पिता सुरेश ओबरॉय का नाम इस्तेमाल करके ऑडिशन देकर अच्छी खासी रोल पा सकते थे, लेकिन वह ऐसा नहीं करते थे। अपने करियर के शुरुआती दिनों में बजा भी ऑडिशन देने जाया करते थे। तब वह अपने पिता का परिचय दिए बिना ऑडिशन देते थे। और उन्हें काफी है तो रोल भी मिला करते थे। करियर के शुरुआती दिनों के लिए काफी ज्यादा अच्छे हैं ,लेकिन आगे चलकर उनके करियर में टर्निंग पॉइंट आया।

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: