फिल्म मुग़ल-ए-आज़म का यह किस्सा कर देगा आपको हैरान इस गीतकार को दिए गए एक्टर्स से ज्यादा पेमेंट

के आसिफ के द्वारा बनाई गई फिल्म मुग़ल-ए-आज़म तो आप सभी को याद ही होगी। यह फिल्म इतनी ज्यादा बेहतर थी कि इस फिल्म को भूलना लोगों के बस की बात नहीं है। आज इतने साल हो गए, लेकिन यह फिल्म बॉलीवुड इंडस्ट्री के लिए एक कोहिनूर से भी बढ़कर है। और यह अपना एक अलग ही पोजीशन कायम किए हुए हैं। जिसे छुपाना किसी फिल्म के लिए मुमकिन नहीं है।

पूरी परफेक्शन के साथ बनाना चाहते थे के आसिफ

फिल्म निर्माता के आसिफ इस फिल्म को पूरी तरीके से परफेक्शन के साथ बनाकर तैयार करना चाहते थे। उन्होंने इस फिल्म को बनाने के लिए किसी भी तरीके की कमी ना छोड़ी। जिसका जीता जागता सबूत है फिल्म के द्वारा कमाई गई शोहरत। काफी बेहतरीन ढंग से इस फिल्म में लोगों के दिलों पर राज किया। आज हम इस फिल्म के बारे में कैसे जानकारी आपके सामने रखने जा रहे हैं। जिसे जानकर आप काफी ज्यादा हैरान हो जाने वाले हैं।

फिल्म मुग़ल-ए-आज़म का यह किस्सा कर देगा आपको हैरान इस गीतकार को दिए गए एक्टर्स से ज्यादा पेमेंट

तानसेन के गाने को शूट करने के लिए करनी पड़ी थी मोटी रकम खर्च

Mughal-e-azam के बारे में क्रम बात करें तो इस फिल्म को मुगल बादशाह अकबर की जिंदगी पर बनाई गई है, लेकिन वह बात अलग है कि कहानी के सेंटर में सलीम और अनारकली की प्रेम कहानी को दिखाया गया है, लेकिन फिल्म में शहंशाह अकबर की जिंदगी से बहुत कुछ जुड़ी हुई चीजें रखी गई है। अकबर के दरबार में एक तानसेन नाम के गीतकार थे जो कि काफी बेहतरीन गाने गाया करते थे। उनकी सीन को कास्ट करने के लिए काफी मोटी रकम फिल्म निर्माता को खर्च करनी पड़ गई थी।

फिल्म मुग़ल-ए-आज़म का यह किस्सा कर देगा आपको हैरान इस गीतकार को दिए गए एक्टर्स से ज्यादा पेमेंट

बड़े गुलाम अली खान को किया था अप्रोच

बड़े गुलाम अली खान उस समय के काफी बड़े गीतकार थे। जिन्हें इस गाने को बनाने के लिए अप्रोच किया गया था। उन्होंने इस गाने को काफी बेहतरीन ढंग से बनाया, लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि वह इस फिल्म में अपने गाने को नहीं देना चाहते थे। क्योंकि वह किसी फिल्म के लिए गाने नहीं जाते थे ,लेकिन फिल्म निर्माता उन्हीं से गाने गवाना चाहते थे। जिस पर गुलाम अली ने काफी मोटी रकम फीस के रूप में उनसे मांग ली आपको जानकर हैरानी होगी कि उन्होंने उनसे 30000 फीस की डिमांड कर दी। जबकि उस समय लता मंगेशकर जी और मोहम्मद रफी जैसे गायक 300 फीस के रूप में लेते थे। फिल्म निर्माता के आसिफ बड़े जिद्दी किस्म के इंसान थे। उन्होंने उसी वक्त 10000 की पेमेंट कर डाली और कहा 20000 गाने को शूट करने के बाद देंगे।

फिल्म मुग़ल-ए-आज़म का यह किस्सा कर देगा आपको हैरान इस गीतकार को दिए गए एक्टर्स से ज्यादा पेमेंट

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: